22 October 2015

सिमस : तिनका-तिनका जोड़कर बनाया था "आशियाना", पलभर की बारिश में सबकुछ खत्म

लडभड़ोल : अपना घर बनाना हर व्यक्ति का सपना होता है। इसके लिए वह रात-दिन मेहनत कर पैसे जोड़ता है ताकि वह अपने परिवार के लिए घर बना सके और उस घर में सुख चैन से रह सके। लेकिन सोचिये अगर कोई प्राकृतिक आपदा उम्र भर की मेहनत से बनाये आशियाने को एक पल में किसी से छीन ले तो..?

सिमस गांव में समाने आया मामला
ऐसा ही एक घटना लडभड़ोल तहसील के सिमस गांव से पेश आई है। यहाँ एक निवासी है लता देवी और उनके पति धनप्रकाश, जिन्होंने तिनका-तिनका जोड़कर अपने लिए आशियाना बनाया, पूरी जिंदगी की कमाई जुटाकर अपना आशियाना बनाने में लगा दी। लेकिन सोमवार सुबह हुई भारी बारिश ने उनके घर पर ऐसा कहर बरपाया की घर को रहने लायक ही नहीं छोड़ा। घटना के समय परिवार का एक सदस्य घर पर मौजूद था हालाँकि उसने छत्त से छलांग लगाकर अपनी जान बचाई।

तुरंत खाली करना पड़ा मकान
सोमवार सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर भारी बारिश ने सब कुछ बदल कर रख दिया। तेज़ बारिश के कारण घर को बचाने के लिए लगाया गया डंगा ही घर पर कहर बनकर टूट गया। डंगा इतनी जोर से घर पर गिरा की घर को पूरी तरह जर्जर कर दिया। घर की दरारें इतनी ज्यादा बढ़ गयी की घर को तुरंत खाली करना पड़ा। इस घटना में घर के अंदर रखा सामान भी क्षतिग्रस्त हुआ है। अपनी आंखों के सामने अपने आशियाने को इस तरह बिखरता देखकर लता देवी और उसके परिवार के सभी सदस्यों की आँखे नम हो गईं।

कभी भी गिर सकता है मकान
धनप्रकाश दिल्ली में कार्यरत है, उन्होंने जीवन भर की पूंजी एकत्रिक कर अपने लिए घर बनाया था, लेकिन भारी बारिश के चलते पल भर में सबकुछ तबाह हो गया है। घर को खाली कर दिया गया है। दरारें इतनी बढ़ चुकी है की अब उस घर के अंदर दाखिल होना भी जान जोखिम में डालने से कम नहीं है। यह कभी भी धराशायी हो सकता है।

पलभर में सबकुछ खत्म
लडभड़ोल.कॉम से बात करते हुए लता देवी ने कहा कि अब न जाने उनका आशियाना कब बनकर तैयार होगा। पूरी उम्र कमाई कर बनाया गया मकान पल भर में रहने लायक नहीं रहा। उन्होंने बताया कि उनके पास अब रहने के लिए कोई साधन नहीं है। दूसरों के घर में ही रहकर रातें कितने दिन काटनी पड़ेंगी यह हमें नहीं पता। लता देवी नम आंखों से अपने उस गिरने को तैयार आशियाने को निहारती रही, जिसे बनाने में सदियां लगी थीं।

प्रशासन ने लिया जायजा
घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय पंचायत प्रधान व तहसील प्रशासन तथा स्थानीय लोग भी मौके पर पहुंचे है। पटवारी ने मौके का जायजा लेकर 5 हजार रूपए की फौरी राहत पीड़ित परिवार को सौंप दी है था नुकसान का आंकलन कर उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी है।


तस्वीरों में देखें घर की हालत :







loading...
Post a Comment Using Facebook